Aug 22, 2022, 13:12 IST

धोखा देकर पैसे कमाना चाहता था टीम इंडिया का ये स्टार खिलाड़ी, झेलना पड़ा था एक साल का बैन

C

आज के समय में हर कोई पैसा कमाने के पीछे भागता है. आम इंसान हो या कोई क्रिकेटर हर किसी के लिए पैसा मायने रखता है. क्रिकेट के खेल में वैसे तो खिलाड़ियों को काफी पैसा मिलता है. लेकिन आज हम आपको भारतीय टीम के उसे स्टार क्रिकेटर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने पैसा कमाने के लिए अपनी फ्रेंचाइजी को धोखा दिया था. इस कारण इस खिलाड़ी पर बीसीसीआई ने 1 साल का बैन भी लगाया था.

C

 हम बात कर रहे हैं भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर खिलाड़ी रविंद्र जडेजा की, जो कि गेंद और बल्ले से ही नहीं बल्कि अपनी फील्डिंग से भी टीम इंडिया की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. आपको रविंद्र जडेजा का नाम सुनकर बहुत ही हैरानी हुई होगी, लेकिन यह बिल्कुल सच है. दरअसल 2010 में जडेजा अपनी फ्रेंचाइजी को धोखा देकर मालामाल होना चाहते थे. हुआ कुछ ऐसा कि आईपीएल की शुरुआत 2008 में हुई. तब जडेजा अंडर-19 के महत्वपूर्ण खिलाड़ी थे. उन्हें राजस्थान रॉयल्स ने खरीदा था.
टूर्नामेंट के पहले और दूसरे सीजन में जडेजा ने राजस्थान रॉयल्स के लिए शानदार खेल दिखाया. जडेजा को राजस्थान रॉयल्स ने उस समय 3 साल के लिए साइन किया था. जडेजा का शानदार प्रदर्शन देखकर सभी टीमें हैरान थी. 2010 से पहले मुंबई इंडियंस ने जडेजा को अपनी टीम के लिए खेलने का ऑफर दिया. मोटी रकम देकर मुंबई इंडियंस जडेजा को अपने साथ जोड़ना चाहती थी. 
लेकिन बड़ा ड्रामा तक शुरू हो गया जब राजस्थान रॉयल्स की टीम प्रबंधन को इस बात की जानकारी लग गई. इसकी सूचना तुरंत उन्होंने आईपीएल संचालन परिषद को दी. बता दें कि नियम है कि कोई भी बिका हुआ खिलाड़ी टीम बदलने के बारे में अन्य फ्रेंचाइजी के साथ चर्चा नहीं कर सकता. इस मामले में जडेजा आरोपी पाए गए. जिस कारण नियम तोड़ने के कारण उन्हें 2010 के आईपीएल सीजन से बैन कर दिया गया.

Advertisement

Advertisement

Advertisement